Sunday, February 22, 2015

मृत्यु तू आरम्भ है

मृत्यु तू आरम्भ है
एक अनभिज्ञ आभास का
अभय हो अब आलिंगन कर
करें त्याग हम श्वास का

जो ज्ञात न हो हमें
क्यों व्यर्थ चिंतन उसपर करें
अंतिम क्षण तो पूर्वविधित है
हर मनुष्य के प्राण का

भ्रांतियाँ घेरें अनेक हैं
इस जीवन के दर्पण पर
मात्र एक सत्य कर स्वीकार
करें आह्वान धर्मराज का

मृत्यु तू आरम्भ है
एक अनभिज्ञ आभास का
अभय हो अब आलिंगन कर
करें त्याग हम श्वास का

No comments:

मिट्टी के दीए

सरजू निराशा के बादलों से घिरा बैठा था। दीवाली की दोपहर हो गयी थी, और अभी भी सरजू के ठेले से सामान ज्यों का त्यों पड़ा हुआ था।  बड़ी आस से उसने...