Friday, June 3, 2016

दोपहर

सूना कोना
रंगमहल का
धूप का आँचल
रंग सुनहला
गर्म हवा भी चले वहाँ पे
निंदिया तू क्यों आई यहाँ रे

सुस्त दोपहरी
मन ललचाती
अंखियन के
नीर छलकाती
सूरज भी आज यूं गरमाया
गुस्सैल हो आग बरसाया

रंग हरी का
घूँघट ओढ़े
चाल वक़्त की
कुछ बलखाती
धीमे धीमे हौले हौले
दबे पाँव दिन यूँ चल आई

The Economic Slowdown Needs Immediate Address

The Buck Stops With the Duo (Courtesy: Bloombergquint) The fracas in Maharashtra notwithstanding, things are at a critical juncture ...