Saturday, February 21, 2015

वीर-रस

चलें हैं फिर आज हम तो
पुनः सत्य के शूलों पे
उतरें हैं फिर आज हम तो
पुनः अग्नि के कुंडों में
अवगत थे न हम कभी
जीवन की किसी सरलता से
मरुस्थल में पुष्प को खिलाना
वीरों से सीखा है हमने

No comments:

मिट्टी के दीए

सरजू निराशा के बादलों से घिरा बैठा था। दीवाली की दोपहर हो गयी थी, और अभी भी सरजू के ठेले से सामान ज्यों का त्यों पड़ा हुआ था।  बड़ी आस से उसने...