Saturday, February 21, 2015

वीर-रस

चलें हैं फिर आज हम तो
पुनः सत्य के शूलों पे
उतरें हैं फिर आज हम तो
पुनः अग्नि के कुंडों में
अवगत थे न हम कभी
जीवन की किसी सरलता से
मरुस्थल में पुष्प को खिलाना
वीरों से सीखा है हमने

No comments:

Slicing Through the Chinese High-Tech Economy Propaganda

(Courtesy: India TV) The Indian government’s decision to put 59 applications originating from the People’s Republic of China (PRC) has liter...