फिर उठा परदा

फिर वही रात, वही बारिश

वही मिटटी की महक

और वही चमकती बिजलियों से रोशन आसमान

न जाने क्यों लगता है यह मनज़र नया सा हर बार

न तारों की चमक, न चाँद की रौशनी

फिर भी न जाने क्यों

खूबसूरत है ये बारिश का समा

न जाने क्यों ये बूँदें

किलकारियाँ मारते बच्चों को हसा देती है हर बार

न जाने क्यों

भीगे हुए कपडों में लहलहाती है वोही महक हर बार

लेकर एक नया रंग, एक नया अंदाज़

न जाने क्यों

बारिश की इस चादर को हिलाती ये मदमस्त हवा

बयान कर जाती है एक नया सुर, एक नयी ज़बान

न जाने क्यों

रात की वो आगोश बदल जाती है

न जाने क्यों

टिड्डों की किरकिट बंद और मेंद्कों की टर्र टर्र शुरू हो जाती है

न जाने क्यों

Comments

Popular posts from this blog

Observations on Bengal in Assembly Polls 2021

तिरस्कार की माला

What Vinay Sitapati Has Missed Out –The BJP-RSS’ View of India As seen in Fictional Writings by Deendayal Upadhyaya