Kufr-ae-ishq

तेरे नाम को उँगली से लिखता रहा
क्या दिन क्या रात क्या लम्हा
कुछ भी ज़हन में न रहा

बारम्बार बस लिखता रहा
स्याह कलम और कागज़ का रूहानी संगम
बस ख़ामोश बैठ मैं तकता रहा

अपनी मोहब्बत की बेहिसी  को
बस यूं समझ कोसता रहा
चश्म-ए-नम को खूं से सीन्चता रहा

ख़ल्क-ए-ख्यालों के तबस्सुम
बस यूं ही उजड़ते देखता रहा
और उल्फतों को सीने बांधता रहा

असासे-दीन को बेच कर
कुफ्र को पनाह देता रहा
बस, अपनी दुनिया लुटाता रहा 

Comments

Popular posts from this blog

Call of the Hills - A humble attempt at telling the story of my people

What Vinay Sitapati Has Missed Out –The BJP-RSS’ View of India As seen in Fictional Writings by Deendayal Upadhyaya

Indic Nationalism, and the Role of Vedanta in India’s Freedom Struggle