Saturday, October 19, 2013

Kufr-ae-ishq

तेरे नाम को उँगली से लिखता रहा
क्या दिन क्या रात क्या लम्हा
कुछ भी ज़हन में न रहा

बारम्बार बस लिखता रहा
स्याह कलम और कागज़ का रूहानी संगम
बस ख़ामोश बैठ मैं तकता रहा

अपनी मोहब्बत की बेहिसी  को
बस यूं समझ कोसता रहा
चश्म-ए-नम को खूं से सीन्चता रहा

ख़ल्क-ए-ख्यालों के तबस्सुम
बस यूं ही उजड़ते देखता रहा
और उल्फतों को सीने बांधता रहा

असासे-दीन को बेच कर
कुफ्र को पनाह देता रहा
बस, अपनी दुनिया लुटाता रहा 

No comments:

राम मंदिर निर्णय के समय का भाव

जब राम मंदिर का निर्णय घोषित हुआ था, तब मन में चंद विचार आये थे। उन्हें आज यहाँ छोड़े जा रहा हूँ। ************ आज वह क्षण आ गया, जिसकी...